जिंदगी

गणित के हिसाबो में गलतियां होने पर

प्रश्न दोबार पढ़ कर

फिर से गलतियां सुधार कर

हिसाबो को ठीक किया जा सकता है

जिंदगी एक ऐसा सवाल है|

जिसका हिसाब पीछे जाकर नहीं

बस आज से शुरुआत करके सुधारा जा सकता है |

2 thoughts on “जिंदगी

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s